व्यायाम के लाभ पर निबंध | Vyayam ke Labh Par Nibandh

व्यायाम के लाभ पर निबंध | Vyayam ke Labh par nibandh | Vyayam ke Labh par nibandh in Hindi | व्यायाम के लाभ पर निबंध | Vyayam ke Labh par Hindi Essay | Essay on Vyayam ke Labh in Hindi

व्यायाम के लाभ पर निबंध | Vyayam ke Labh Par Nibandh

व्यायाम

व्यायाम शब्द का अर्थ है-कसरत। शरीर को स्वस्थ तथा नीरोग रखने में व्यायाम का बहुत महत्त्व है।

व्यायाम का महत्त्व

आज की भागदौड़ से भरी जिंदगी ने मनुष्य को इतना व्यस्त कर दिया है कि वह यह भी भूल गया है कि इस सारी भागदौड़ का वह तभी तक हिस्सेदार है, जब तक उसका शरीर स्वस्थ है। जो व्यक्ति अपने शरीर की उपेक्षा करता है, समझ लीजिए कि वह अपने लिए रोग, बुढ़ापा और मृत्यु के दरवाजे खोलता है। आज के समाज में जो भयानक रोग तथा महामारियाँ दिखाई देती हैं उनका एक प्रमुख कारण व्यक्ति का अपने स्वास्थ्य के प्रति ध्यान न देना भी है।

व्यायाम से शरीर तथा मन पर नियंत्रण

एक कहावत है कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन तथा आत्मा का निवास होता है और स्वस्थ रहने के लिए व्यायाम बहुत आवश्यक है। वैसे तो अच्छे स्वास्थ्य के लिए संतुलित भोजन, स्वच्छ जल तथा वायु, संयम तथा नियमित निद्रा सभी कुछ जरूरी है, किंतु इन सब में व्यायाम का अपना विशेष महत्त्व है। नियमित व्यायाम करनेवाले व्यक्ति में एक ऐसी अद्भुत शक्ति आ जाती है कि सारे शरीर पर उसका अधिकार हो जाता है। इसी के फलस्वरूप वह व्यक्ति अपने मन की भावनाओं पर भी नियंत्रण रख सकता है। वास्तव में व्यायाम हमारे अच्छे स्वास्थ्य के लिए भोजन-सामग्री है । स्वस्थ मनुष्य ही शारीरिक और मानसिक सभी कार्य सुगमता से कर सकता है। जो बीमार रहता है वह न तो कोई शारीरिक श्रम का कार्य कर सकता है और न ही कोई बौद्धिक कार्य। इसके लिए आवश्यक है कि सभी को व्यायाम के लिए थोड़ा-सा समय अवश्य निकालना चाहिए। यदि शरीर स्वस्थ रहेगा तो मन भी प्रसन्न रहेगा और हम हर काम आनंद और स्फूर्ति से कर सकेंगे।

व्यायाम के प्रकार और लाभ

व्यायाम के अंतर्गत अनेक प्रकार के क्रियाकलाप शामिल होते हैं। सबसे प्रमुख कार्य है प्रात:काल जल्दी उठकर घूमने जाना। प्रात:काल घूमने से एक ओर तो हमारे प्राणों में स्वच्छ वायु का संचार होता है, दूसरी ओर शरीर के सभी स्नायुओं को नया रक्त और प्राण प्राप्त होते हैं। इसके अलावा लोग तरह-तरह की कसरतें भी कर सकते हैं। जो लोग किन्हीं कारणों से प्रात: घूमने नहीं जा सकते वे अपने घर पर ही कसरत कर सकते हैं। तरह-तरह के खेल भी व्यायाम के ही अंतर्गत आते हैं। छात्र-छात्राएँ हॉकी, फुटबॉल, क्रिकेट, बास्केट बॉल, टैनिस आदि सभी खेलों में सक्रिय रूप से भाग लेकर अपने स्वास्थ्य का ध्यान रख सकते हैं। खेलों से न केवल व्यायाम ही होता है अपितु ये मनोरंजन के भी सशक्त साधन हैं । कसरत, आसन या किसी भी प्रकार के व्यायाम के बाद शरीर पर तेल मालिश भी अच्छे स्वास्थ्य के लिए उपयोगी है। तेल मालिश से एक ओर हमारे स्नायु-तंत्र में खिंचाव पैदा होता है तो दूसरी ओर त्वचा में भी चमक आ जाती है और रक्त प्रवाह ठीक रहता है।

व्यायाम के बाद शरीर को ठंडा करने के लिए थोड़ा विश्राम अवश्य करना चाहिए। इसके बाद स्नान करना अति आवश्यक है। स्वच्छ ठंडे पानी से रगड़कर शरीर को साफ करने से शरीर की त्वचा के सभी रंध्र खुल जाते हैं।

आजकल बड़े-बड़े नगरों, महानगरों में जगह-जगह सरकारी तथा व्यक्तिगत ‘जिम’ खुल गए हैं। यहाँ विभिन्न प्रकार के उपकरणों तथा यंत्रों की मदद से व्यायाम करवाया जाता है। जो लोग किसी कारण से स्वयं व्यायाम का समय नहीं निकाल पाते उनके लिए ये भी बड़े उपयोगी हैं। कहने का तात्पर्य इतना ही है कि नियमित व्यायाम अच्छे स्वास्थ्य के लिए रामबाण औषधि है। अत: हमें आलस को त्यागकर प्रतिदिन व्यायाम के लिए कुछ समय अवश्य निकालना चाहिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *