विकारी शब्द – परिभाषा, भेद तथा उदाहरण | Vikari Shabd Kise Kehte Hai

इस लेख में हम आपको विकारी शब्द की परिभाषा (Vikari Shabd ki paribhasa) (Vikari Shabd kise kahate hain), विकारी शब्द के भेद (Vikari Shabd ke bhed) और Vikari Shabd के उदाहरण के बारे में बताने वाले हैं। इस Article में विकारी शब्द के बारे में पूरी जानकारी दी गई है। इसको ध्यान से पढे।

विकारी शब्द - परिभाषा, भेद तथा उदाहरण | Vikari Shabd Kise Kehte Hai

संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण तथा क्रिया शब्द ‘विकारी’ कहे जाते हैं, क्योंकि इनके वाक्य में प्रयुक्त होने वाले विभिन्न रूप मिलते हैं।

1. संज्ञा

“किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान, स्थिति, गुण अथवा भाव के नाम का बोध कराने वाले शब्दों को संज्ञा कहते हैं।”

जैसे —

  1. हरीश का घर दिल्ली में है।
  2. मदन घोड़े की सवारी कर रहा है।
  3. लखनऊ गोमती के किनारे पर बसा हुआ है।
  4. क्रोध मनुष्य को पागल बना देता है।
  5. बुढ़ापा सभी रोगों का घर है।
  6. ईमानदारी बहुत ही महत्त्वपूर्ण गुण है।

2. सर्वनाम

“वाक्यों में संज्ञा की पुनरावृत्ति बचाने के लिए संज्ञा के स्थान पर जिन शब्दों का प्रयोग किया जाता है, वे ‘सर्वनाम‘ कहे जाते हैं।”

जैसे – वह, हम, तुम, कौन, कहां, कैसे आदि।

3. विशेषण

जो शब्द संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता (गुण, संख्या, मात्रा या परिमाण आदि ) बताते हैं, विशेषण‘ कहे जाते हैं।

जैसे – खूबसूरत, ढीला, गोरा, स्वस्थ, अधिक, कम आदि।

जिन संज्ञाओं की विशेषता बताई जाती है उनको विशेष्य कहते हैं।

4. क्रिया

‘क्रिया’ वे शब्द (पद) हैं जिनसे किसी कार्य के होने या किए जाने का, किसी घटना या प्रक्रिया के घटित होने का, या किसी वस्तु या व्यक्ति की अवस्था या स्थिति का बोध होता है।

जैसे — चलना, फिरना, दौड़ना, भागना, हँसना, रोना, मुस्कुराना आदि।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *