इंटरनेट की दुनिया पर निबंध (Internet Essay In Hindi)

इंटरनेट की दुनिया पर निबंध | Internet ki duniya par nibandh | Internet ki duniya par nibandh in Hindi | इंटरनेट की दुनिया पर निबंध | Internet ki duniya par Hindi Essay | Internet Essay In Hindi

इंटरनेट की दुनिया पर निबंध (Internet Essay In Hindi)

आज दुनिया आपकी मुट्ठी में है। बस क्लिक कीजिए और सब कुछ आपकी आँखों के सामने हाजिर। विज्ञान का एक अद्भुत आविष्कार है-कंप्यूटर और उसमें भी इंटरनेट सुविधा तो सोने पर सुहागा है। यह एक ऐसी व्यवस्था है, जो दुनिया के सभी लोगों को जोड़ने का काम करती है।

इंटरनेट सुविधा ने ज्ञान के क्षेत्र में अद्भुत क्रांति ला दी है। समुद्र के भीतर उतरिए या आसमान की सैर कीजिए। अतीत को जानिए या भविष्य में झांकिए, दुनिया के किसी भी कोने से संबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो वह यहाँ उपलब्ध है। ज्ञान, विज्ञान, खेल, शिक्षा, संगीत, फ़िल्म, देश-विदेश के समाचार, मौसम, कला हर क्षेत्र की जानकारी यहाँ मौजूद है। चाहे तो संगीत सुनिए या खेल खेलिए: ज्योतिष संबंधी जानकारी प्राप्त कीजिए , विवाह करवाना है या नौकरी चाहिए, खरीदारी कीजिए या सामान बेचिए , होटल की बुकिंग करवाइए, रेल का टिकट लीजिए या बिल चुकाइए , इंटरनेट पर आपके लिए सभी सुविधाएँ हैं। अपने ज्ञान का विस्तार कीजिए या अपनी जानकारी दूसरों तक पहुँचाइए। ई-क्लब के सदस्य बनिए और अपनी मंडली के साथ अपनी कलाएँ, अपना ज्ञान बाँटिए।

दूर बैठे लोगों से संपर्क स्थापित कीजिए, उनसे बातचीत कीजिए, उनकी फोटो देखिए। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग’ कीजिए। देश-विदेश में कहीं भी दाखिला लेना चाहते हैं तो यहीं से फार्म भेजिए, इलाज करवाना है तो घर बैठे अस्पतालों की जानकारी प्राप्त कीजिए और अब तो दूर बैठे-बैठे रोग का इलाज पाइए, डॉक्टर को ऑपरेशन थियेटर तक आने की ज़रूरत नहीं।

मनोरंजन और ज्ञान विस्तार का इससे अच्छा साधन और क्या हो सकता है, पर इसका दुरुपयोग भी किया जाता है। गुप्त जानकारियों को हासिल करना, अफवाहें फैलाना, धमकियाँ देना, अश्लीलता का स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव, पुस्तकों से दूरी आदि इसके दुष्परिणाम ही तो हैं। हमें विज्ञान की इस आधुनिक देन का आदर करते हुए इसके दुरुपयोग के दुष्परिणामों से बचने की चेष्टा करनी चाहिए।

आज इंटरनेट घर-घर की ज़रूरत बन गया है। इसका प्रयोग करने वाले अपनी एक अलग दुनिया बना लेते हैं, जिससे धीरे-धीरे वह समाज से अलग-थलग रहने वाले एक भिन्न प्रकार के ‘फोबिया’ के शिकार हो जाते हैं। यदि इसका प्रयोग नियंत्रित हो और समझदारी से किया जाए तो इसके लाभ हमें निश्चय ही समृद्ध करेंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *